logo

corn crop मक्का की अधिक पैदावार के लिए किसान इन किस्मों का करें प्रयोग

Agro Tips for corn crop जुलाई माह में मक्का के कुछ खास किस्मों की बुवाई करके किसान अच्छी पैदावार ले सकता है। इसके साथ ही किसानों को जुलाई महीने में मक्का की फसल में ये प्रयोग जरूर अपनाने चाहिए जिससे न केवल किसानों को अच्छी पैदावार मिलेगी बल्कि किसानों की आमदनी में पहले से इजाफा होगा।
 
 | 
corn crop मक्का की अधिक पैदावार के लिए किसान इन किस्मों का करें प्रयोग

News Hindi News Haryana] मक्का की अधिक पैदावार के लिए हाइब्रिड किस्में अधिक उपयुक्त, बुवाई से पहले बीज का उपचार जरूरी, जुलाई में कर लें उपचार, मिलेगा अच्छा दाना जुलाई माह में मक्का की हाइब्रिड किस्मों की बुवाई कर किसान अधिक पैदावार पा सकते हैं। हिसार स्थित एचएयू के कुलपति प्रोफेसर बीआर कांबोज और अन्य वैज्ञानिक प्रदेश के किसानों को हाइब्रिड किस्म सुधा एकल और एचक्यूपीएम 1, एचक्यूपीएम 4 आदि की बुवाई करने के सम्बंध में टिप्स दे रहे हैं।

 

प्रो. कांबोज ने बताया कि बुवाई से पहले 4-5 जुताई कर दो बार सुहागा लगाएं, ताकि खेत में ढेले न रहें।  वहीं, खरपतवार नियंत्रण के लिए 400-600 ग्राम एट्राजिन / एकड़ 200-250 लीटर पानी में घोलकर बिजाई के तुरंत बाद छिड़काव करें।


• बीज का यूं करें चुनाव सामान्य मक्का के लंबी व मध्यम अवधि की सिफरिश सुधा एकल संकर किस्में व क्यूपीएम के एचक्यूपीएम 1,एचक्यूपीएम 4 और एचक्यूपीएम 5 हाइब्रिड का उपयोग करें।

■• खेत का चयन व तैयारी मक्का के लिए रेतीली दोमट मिट्टी व अच्छे जल निकासी वाले खेत का चयन करें। मिट्टी भुरभुरी कर बिजाई करें बिजाई ऊंचे इलाकों में करें। 


.• बिजाई का समयः अच्छे दाने के लिए मक्का की बिजाई 20 जुलाई तक पूरी कर लें। 


• बीज की मात्राः एक एकड़ खेत के लिए 8 किलोग्राम बीज की आवश्यकता होती है।


• बिजाई का तरीकाः पूर्व-पश्चिम दिशा में मेड बना, दक्षिण में 4-6 सेमी गहरी बिजाई करें। बाद में आधा खूड़ की ऊंचाई तक पानी लगाने से जमाव जल्दी होता है। 


• बीज का उपचारः मक्का के लिए फॉल आर्मीवर्म सर्वाधिक हानिकारक कीट है। इससे बचाने के लिए साय अंतरानीलि प्रोले 19.8 थायमेथोक्सम 19.8 कीटनाशी द्वारा 6 मिली/किलो बीज की दर से शाम को  •बीजोपचार करें व सुबह बिजाई करें।

 


■ खाद व उर्वरकः
 बुवाई से पहले गोबर खाद 60 क्विंटल / एकड़की दर से डालें। बुवाई के समय 50 किलो डीएपी 40 एमओपी व a37 किलो यूरिया का प्रयोग करें।