logo

kerosene Price Hike पेट्रोल डीजल से भी महंगा हो गया मिट्‌टी तेल, जानिए वजह

Petrol Diesel price पेट्रोल डीजल के बढ़ते रेट्स आद आदमी के लिए सिर दर्द बन ही रह थे ऐसे में बढ़ते मिट्‌टी तेल के रेट्स ने आम आदमी के लिए मुसीबत खड़ी कर दी है। आइए जानते है मिट्‌टी के तेल मे हो रही बढ़ोतरी की वजह
 
 | 
kerosene Price Hike पेट्रोल डीजल से भी महंगा हो गया मिट्‌टी तेल, जानिए वजह

News hindi Live]  छत्तीसगढ़ में पहली बार मिट्टी तेल  पेट्रोल और डीजल से भी महंगा हो गया है। केंद्र सरकार ने मिट्टी तेल पर पूरी तरह से सब्सिडी खत्म कर दी है। राज्य सरकार की ओर से भी इस पर कोई सब्सिडी नहीं दी जा रही है। इस वजह से इसकी कीमत पेट्रोलियम कंपनी के डिपो से 101 रुपए और राशन दुकान पहुंचते तक 104 रुपए हो गई है।

 

रायपुर में अभी पेट्रोल 102.34 और डीजल 95.32 रुपए में बिक रहा है। यानी पेट्रोल-डीजल दोनों से महंगा मिट्टी तेल हो गया है। कीमत बढ़ने का सीधा असर इसकी खरीदी- बिक्री पर हो रहा है। रायपुर शहर के किसी भी अधिकृत डीलर ने 1 जुलाई से अभी तक पेट्रोलियम डिपो से 1 लीटर भी मिट्टी तेल नहीं खरीदा है। शहर के 132 से ज्यादा राशन दुकानदारों में कहीं भी मिट्टी तेल नहीं बिक रहा है। लोग राशन दुकानों से मिट्टी तेल खरीदने पहुंचते भी हैं तो कीमत सुनकर वापस लौट जाते हैं।

 

मिट्टी तेल की कीमत इस साल लगातार बढ़ रही है।  साल की शुरुआत में इसकी कीमत करीब 40रु लीटर थी। लेकिन इसके बाद लगातार कीमत बढ़ती गई। जून में कीमत 85 रु. के आसपास पहुंच गई और जुलाई में कीमत 100 रुपए के पार हो गई। पिछले साल यानी जुलाई 2021 में मिट्टी तेल की कीमत 43.78 रुपए थी। केंद्र सरकार का दावा है कि उज्जवला गैस योजना के तहत लाखों सिलेंडर बांट दिए गए हैं। इसलिए शहर ही नहीं दूरस्थ इलाकों में भी मिट्टी तेल की जरूरत नहीं है। इसलिए इस पर पूरी तरह से सब्सिडी खत्म कर दी गई हालांकि राज्य सरकारों के पास अधिकार है कि वे अपने राजकोष इस पर सब्सिडी दे सकती है। लेकि छत्तीसगढ़ सरकार ने अभी तक इ पर किसी भी तरह की राहत देने व घोषणा नहीं की है।


केंद्र ने खत्म कर दी सब्सिडी, जून में 85 रुपए लीटर था, जुलाई में महंगा होता गया केरोसीन।

रायपुर के किसी भी डीलर ने इस महीने एक लीटर भी मिट्टी तेल नहीं खरीदा, सभी राशन दुकानदारों ने भी हाथ खींचे
छत्तीसगढ़ में 14 लाख, रायपुर में 4 लाख लीटर की खपत थी मिट्टी तेल की कीमत बढ़ने के पहले तक राज्यभर में 14 लाख लीटर और केवल रायपुर में 4 लाख लीटर से ज्यादा की खपत थी। जैसे-जैसे कीमत बढ़ती गई, खपत भी कम होती गई। अभी जुलाई में यह खपत शून्य हो गई है। डीलरों के पास जो पुराना स्टॉक है, वे उसे ही बेच रहे हैं। बड़े डीलरों की माने तो एक टैंकर में 12 हजार लीटर मिट्टी तेल आता है। पहले ही इसकी कीमत 2.25 लाख के आसपास होती थी। लेकिन जुलाई से इसकी कीमत 12 लाख से भी ज्यादा आसान नहीं है। इसलिए डीलरों ने मिट्टी तेल की खरीदी से दूरी बना ली है।

कोलकाता और मुंबई से महंगा रायपुर में, दिल्ली कैरोसिन फ्री।

ऑयल मिनिस्ट्री के पेट्रोलियम प्लानिंग एंड एनालिसिस सेल के अनुसार देशभर में दिल्ली, आंध्रप्रदेश, पंजाब और हरियाणा को कैरोसिन फ्री सिटी घोषित कर दिया गया है। इन राज्यों के अलावा गुजरात, बिहार, यूपी और महाराष्ट्र ने केंद्र सरकार की ओर से मिलने वाला कैरोसिन के कोटे में एक बड़ी मात्रा में स्वेच्छा से सरेंडर यानी वापस कर दिया है। दिल्ली के अलावा 1 जून को कोलकाता में 87.38 रु., मुंबई में 83.59 और तमिलनाडु सरकार की ओर से 86 रु. की सब्सिडी देने की वजह से वहां मिट्टी तेल 15 रु. लीटर में बिक रहा है। नियमानुसार केरोसिन को उपयोग खाना पकाने और रौशनी के लिए ही किया जा सकता है।