logo

NHAI अब किसानों की पराली को खरीदेगा NHAI, मिलेगा ये रेट

हरियाणा (Haryana) के किसानों को बड़ी सौगात देते हुए नितिन गडकरी (Nitin Gadkari) ने हरियाणा के सीएम मनोहर लाल (cm manohar lal) को किसानों द्वारा पराली (straw) न जलाने की बात कही है। उन्होंने कहा कि एनएचएआई (NHAI) किसानों से पराली खरीदने के लिए तैयार है। जिससे सरकार को पराली से ईधन (fuel) बनाने में मदद मिलेगी वहीं दूसरी ओर से किसानों को पराली के भी अच्छे रेट मिलेंगे।
 
 | 
NHAI अब किसानों की पराली को खरीदेगा NHAI, मिलेगा ये रेट

हरियाणा ब्यूरो, हरियाणा प्रदेश में आने वाले 5 सालों में पेट्रोल वाहनों (petrol vehicles) को बिल्कुल समाप्त कर दिया जाएगा। इसी उद्देश्य को लेकर सरकार लगातार ई वाहनों (e vehicles) को बढ़ावा देनी की दिशा में काम कर रही है। वहीं मंगलवार को गुरूग्राम (gurugram) के ताऊ देवी लाल स्टेडियम (Tau Devi Lal Stadium) में एनसीआर (NCR) की मुख्य परियोजनाओं का लोकार्पण करते हुए नितिन गडकरी (Nitin Gadkari) द्वारा सीएम मनोहर (CM Manohar) से कहा गया कि वे हरियाणा के किसानों को अन्नदाता की वजाह ऊर्जादाता बनाने की दिशा में काम करें। उन्होंने बताया कि किसान के खेतों में चलने वाले ट्यूबवैल से निकलने वाले पानी से ग्रीन हाईड्रोजन (green hydrogen) बनेगी और किसानों की पराली से ईधन।


उन्होंने कहा कि हरियाणा के किसानों को पराली को ना जलाने की सलाह दें ताकि भविष्य में ई वाहनों के लिए पराली को ईधन के रूप में इस्तेमाल किया जा सकें। जानकारी देते हुए उन्होंने बताया कि पराली को बिटूमिन (bitumen) बनाने के काम में लाया जाएगा। जिसे लेकर एनएचएआई (NHAI) किसानों से पराली खरीदने के लिए तैयार है। यहीं नहीं किसानों से दो हजार रूपए प्रति टन के हिसाब से पराली खरीदी जाएगी।

 


हरियाणा में लगेंगे एथेनाल पंप
नितिन गडकरी के मुताबिक सरकार द्वारा लगातार एथेनाल (ethanal) के प्रयोग को बढ़ावा देने की दिशा में काम किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि हरियाणा में भी डीजल और पेट्रोल पंपों की जगह एथेलाल के पंप (Ethel's Pump) लगवाएं जाए। जिससे न केवल प्रदूषण कम होगा बल्कि वाहनों चालकों के तेल में खर्च होने वाले आधे पैसे भी कम हो जाएंगे।


जल्द हरियाणा भी होगा जाम मुक्त
नितिन गडकरी ने बताया कि दिल्ली (delhi) को ट्रैफिक जाम (traffic jam) मुक्त करने और यातायात प्रणाली में सुधार करने को लेकर सरकार की ओर से 60 हजार करोड़ रुपए के काम करवाए जा रहे है। जिसका फायदा दिल्ली के साथ साथ हरियाणा को ज्यादा मिलेगा।