logo

Sawan सावन में व्रत रखने वालों को इन बातों का रखना चाहिए ध्यान

health tips सावन माह में भगवान शिव (bhagwan shiv) की कृपा पाने को लेकर काफी लोग सावन के सोमवार व्रत (sawan somvar vart) रखते है वहीं कुछ लोगों द्वारा सावन माह में पूरा महीना व्रत किया जाता है। ऐसे में हमें व्रत के दौरान कुछ बातों का ध्यान रखना चाहिए ताकि हमारे शरीर में किसी चीज की कमी ना हो।
 
 | 
Sawan सावन में व्रत रखने वालों को इन बातों का रखना चाहिए ध्यान

News Hindi Live] सावन मास 14 जुलाई से शुरू हो चुका है। इस महीने में बारिश होती है, जिससे उमस बढ़ जाती है। ऐसे में बॉडी डिहाइड्रेट होने का खतरा रहता है। सावन में व्रत रखने वाले भक्तों को किस तरह के खाद्य पदार्थों का सेवन करना चाहिए, इसको लेकर पीजीआई के डाइटीशियन बीएन बेहरा ने कहा कि उमस के चलते बॉडी से पसीना ज्यादा निकलता है।ऐसे में जो लोग व्रत रख रहे हैं, उन्हें खास सावधानी रखने की जरूरत होतीहै। 


धार्मिक मान्यताओं का पालन करते हुए अपनी दिनचर्या इस तरह से तय कर सकते हैं। 
 व्रत के दौरान बॉडी को जरूरी खाद्य पदार्थ मिलने से डिहाइड्रेट नहीं होगी। आप स्वस्थ रहकर सावन के पूरे महीने व्रत रख सकते हैं। पं. सुभाष चंद्र बताते हैं कि अभी पूर्णिमा श्रावन मास 12 अगस्त रहेगा। इसके अलावा संक्रांत सावन मास 16 अगस्त तक रहेगा। ज्यादातर भक्त पूरे सावन मास में व्रत रखते हैं। कुछ सावन के सोमवार को व्रत रखते हैं। पूर्णिमा सावन के अभी तीन व्रत बाकी हैं, जबकि संक्रांत श्रावन मास के चार व्रत बाकी हैं। पंडित कहते हैं कि जो लोग व्रत रख रहे हैं, उन्हें कोशिश करनी चाहिए कि शाम को सूरज छिपने से पहले व्रत का भोजन कर लें। इसके अलावा तड़के पूजा पाठ कर जल्द ही कुछ खा लेना चाहिए।

 


ये सावधानी जरूर  बरतें:
• बरसाती सीजन में फ्रूट्स और वेजिटेबल में फंगस का खतरा रहता है, इसलिए फ्रूट्स और वेजिटेबल्स को उबालकर या अच्छे से धोकर खाएं। जिन लोगों को डायबिटीज या हाई ब्लड प्रेशर की दिक्कत है,संभव हो तो पूरे महीने व्रत न रखें। सावन के सोमवार को व्रत रख सकते हैं, लेकिन अपनी डाइट का खास ख्याल रखना चाहिए।


• सुबह पूजा के बाद दूध और फल ले सकते हैं। इससे उनकी ब्रेकफास्ट में जरूरी कैलरी की पूर्ति हो जाती है।


• दिन में 11 बजे जूस ले सकते हैं। ताजाजूस ज्यादा बेहतर है।


• दोपहर के वक्त सलाद, नींबू का पानी या नारियल का पानी ले सकते हैं। इस मौसम में मौसमी बीमारियां होने का खतरा रहता है, इसलिए फ्रूट्स या वेजिटेबल को अच्छी तरह से गर्म पानी में धोकर ही सेवन करें।


• शाम के वक्त पूजा के बाद कुट्टू, सिंघाड़े के आटे की रोटी, एक कटोरी दही व साथ में जो भी सीजनल सब्जी खाते हैं, वह ले सकते हैं।
• बीच-बीच में चाय-पानी लेते रहें। सूरज छिपने से पहले भोजन कर लें।